Stimulating Young Hearts........

Sher O Shayari

© हिमानी वशिष्ठ


रात भर इस कदर याद करती रही अ बेखबर तुझे,               
सुबहां तेरी यादों का इम्तिहान देना हो जैसे मुझे !!




रो रहा है दिल, जो तू मेरे पास नहीं है !
क्या कहूँ, तुझे तो इस दर्द ए दिल का एहसास भी नहीं है!!




पूछता है जमाना - क्यूं ज़माने से, क्यूं खुद से, क्यूं खुदा से इतनी रुसवाई है !
कैसे बताऊँ- हैं वो बाहों में अपनी दुल्हन के, और मेरे हिस्से बस तन्हाई है ...!!





Na raat ka dar hai, na tanhai ka dar hai,
aapse bichad ker hum, maut se bhi befikar hai.


Yu to Chand ki komal roshni, patton se chan ker mujh per aaj bhi girti hai,
magar jane kyu chandni me, mera rang ab chandi sa nikharta kyu nahi!!



मत जलो मेरी मुस्कान पर, मैं बस दर्द की नुमाईश नहीं करती,
समुंद्र है मेरा हृदय, दरिया की ख्वाहिश नहीं करती....!!

Biti raat hum ro - roker unko apni mohabbat ki duhai dete rahe
humare ashkon se bhi us bewafa ka dil bhiga tak nahi.......





Dard bhut hua magar hum ro na sake, 
Thik se dil ki baat unse keh bhi na sake,
Jab se kaha unhone mujhse, Unhe mohabbat nahi hai humse,
Hum rehtae hai chup- chup se gum-sum se




न छेड़ किस्सा-ऐ-उल्फत. बड़ी लम्बी कहानी है, मैं ज़माने से नहीं हारी किसी की बात मानी है...!!




Kya socha tha tumne, Gam doge to Himani Bikhar jayegi....
Zalim ye jan le...tere her sitam ke sath mae aur Nikhar jaungi...!!





मुद्दतों बाद तकदीर का फैसला मेरे हक में आया है ,
सपनों से प्यारा महबूब हकीकत में पाया है ।
उफ़ क्या कातिलाना अंदाज़ है मेरे महबूब का ,
जैसे चाँद आसमां छोड़ ज़मीं पर उतर आया है ।

क्या काशिश है उनकी मोहब्बत में ,
लगता है फ़रिश्ता स्वर्ग छोड़ मेरे लिए जमीं पर आया है।


तन्हाई से नहीं मोहब्बत से डरते हैं हम,
रुसवाई से नहीं प्यार से डरते हैं हम,
जुदाई से नहीं मिलने से डरते हैं हम,
एक गम-ए-हादसा क्या हुआ....
प्यार, इश्क, मोहब्बत...
ऐसे लफ़्ज़ों से भी डरते हैं हम !


आपकी तरह हमें अपने टूटने का चर्चा करना पसंद नहीं,
सीने में हमारे भी दिल है, कोई पत्थर तो नहीं,
चुप्पी से सह लेंगे हम, हमें तमाशा पसंद नहीं..

आब उड़ जाती है चेहरे की, जो घडी भर भी वो रूठ जाते हैं
अब जब उम्र भर का बिछुड़ना होगा... हमारा क्या होगा ...

© हिमानी वशिष्ठ

0 comments:

Post a comment